बड़बोलों ने अपनी फुटबाल को भुला दिया 


बड़बोलों ने अपनी फुटबाल को भुला दिया

राजेन्द्र सजवान
एक और वर्ल्ड कप निपट गया ।श्रेष्ठ और हकदार की जीत हुई ।लेकिन रात भर जाग कर हमें क्या मिला ? हमारे लिए तो वर्ल्ड कप एक तमाशे जैसा था ।हम तो बेगानी शादी मे दीवाने भर थे ।आम भारतीय अटकलबाज़ियाँ लगाता रहा ।हमारे अख़बार और तमाम चैनल फ़्रांस,क्रोएशिया,बेल्जियम,इंग्लैण्ड,ब्राजील , जर्मनी,अर्जेंटीना ,उरुग्वे और तमाम टीमों के गुणगान मे लगे रहे ।ऐसा बखान किया गया जैसे फुटबॉल के बारे में उनसे ज्यादा कोई दूसरा नहीं जानता ।लेकिन किसीने भी अपनी फुटबॉल के बारे में बात नहीं की।किसी ने यह तक बताने की कोशिश नहीं की क़ि भारत क्यों विश्व कप में नहीं खेला और कब तक खेल पायेगा !

यही मौका था जब भारतीय फुटबॉल की दयनीय हालत का रोना तो रोया ही जा सकता था ।लेकिन हमें कभी नेमार के दुर्भाग्य ने रुलाया तो कभी ब्राज़ील के पतन पर रोए ।अर्जेंटीना की हार पर भी बहुत सी भारतीय आँखें नम हुईं ।मज़ाल है किसी ने अपनी फुटबॉल की मौत पर कोई सवाल किया हो, एक आँसू तक बहाया हो ।ऐसी हरकतें हम सालों से करते आ रहे हैं पर अपनी फुटबॉल की बदहाली पर कोई आंसू नहीं बहाता ।आखिर क्यों हम इतने निष्ठुर हो गए हैं ? आखिर क्यों अपनी सरकार और फुटबॉल संघ से सवाल नहीं करते ? क्यों नहीं पूछते क़ि दुनिया की दूसरे सबसे ज्यादा आबादी वाले देश की फुटबॉल हैसियत लगातार क्यों गिर रही है ?आख़िर क्यों कप्तान सुनील क्षेत्री को हाथ जोड़ कर फुटबाल प्रेमियों को मैच देखने बुलाना पड़ता है ?

अफ़सोस की बात है क़ि एकभी बड़बोले टीवी चैनल ने अपनी फुटबॉल पर डिवेट नहीं कराई ।किसी भी अख़बार ने भारतीय फुटबॉल की चीड़फाड़ नहीं की |

Advertisements

3 comments

  1. Sajwan bhai aap bilkul sahi bol rhei hai, wc mei comments krnei walo ki jaise jhadi he lag gyi thii, unsei zyda football kei ghyta shayad aur koi nhi hai, jabki hammari khud ki football ki halat ek dum fisadi hai, jab aap logo ko football ki itni samaj hai to bhartiya footbaal ka bhi ufhhar kar do,….
    Sunil ko khud haath jod kr appeal krni pad thi hai…..
    Hum logo ko dussro ki taraf dari ki bajair khud ki football pei sachei bhav sei kaam krna hoga.

    Liked by 1 person

  2. सर, बहुत अच्छा विश्लेषण करते हैं आप। काफी कुछ सीखने को मिलता है हमें। धन्यवाद

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.