बजरंग का गोल्ड : योगेश्वर अकादमी ने बदला रंग

बजरंग का गोल्ड : योगेश्वर अकादमी ने बदला रंग

राजेंद्र सजवान
जकार्ता एशियाई खेलों मे बजरंग पूनिया के स्वर्ण पदक के बाद से सोनीपत की योगेश्वर दत्त रेसलिंग अकादमी की रंगत बदल गई है| दिल्ली और देश के अन्य अखाड़ों की तरफ कूच करने वाले पहलवान ठिठक गये हैं| उनमे से ज़्यादातर ने योगेश्वर अकादमी की राह पकड़ ली है | ऐसा स्वाभाविक भी है आख़िर योगी के शिष्य और भाई समान बजरंग ने इस अकादमी के प्रतिनिधि के रूप मे देश के लिए कुश्ती का स्वर्ण जीता है|

देखा जाए तो पिछले कुछ सालों मे भारतीय कुश्ती की दशा दिशा बदलने के साथ ही अखाड़ों की पहचान भी बदली है | कभी गुरु हनुमान ,मास्टर चंदगी राम और चाँद रूप अखाड़ों की धूम थी | फिर छत्रसाल अखाड़ा अस्तित्व मे आया और अब शायद उसकी जगह लेने के लिए योगेश्वर अकादमी की उँची छलाँग लगाई है,जिसे शुरू हुए अभी ज़्यादा वक्त नहीं हुआ है|

इस अकादमी की शुरुआत दो अप्रैल,2017 को हुई थी | योगेश्वर और छत्रसाल अखाड़े के उनके कोच द्रोणाचार्य रामफल ने छोटी उम्र के पहलवानों को कुश्ती के दाँव सिखाने शुरू किए | सिर्फ़ बजरंग इकलौते सीनियर पहलवान थे| कोच रामफल के अनुसार अखाड़े मे लगभग पौने दोसौ उभरते पहलवान हैं जिनमे से ज़्यादातर 10.से 15 साल के हैं| उन्हें रामफल और उनके शिष्य योगेश्वर सिखाते पढ़ाते हैं | योगेश्वर के अनुसार बड़ी बात यह है कि उनके अखाड़े के 15 बाल पहलवानों को जिंदल स्टील वर्क्स प्रायोजित कर रहा है | उन्हें भरोसा है कि आने वाले दो-तीन सालों मे उनकी अकादमी कई अंतरराष्ट्रीय पहलवान निकालने मे सफल रहेगी | बजरंग यदि ओलंपिक स्वर्ण जीतने मे सफल रहा तो जूनियर पहलवानों का उत्साह बढ़ेगा |

देश की मांग बजरंग को खेल रत्न,योगी को मिले द्रोणाचार्य !

Advertisements

One comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.