हॉकी वर्ल्ड कप: नाकामी के 43 साल

हॉकी वर्ल्ड कप: नाकामी के 43 साल

नई दिल्ली/ राजेंद्र सजवान,
भुवनेश्वर मे 28नवंबर से खेले जाने वाले हॉकी वर्ल्ड कप पर भारतीय हॉकी हर हाल मे कब्जा जमाना चाहेगी| ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्‍योंकि पिछले 38 सालों से भारत ने कोई बड़ा खिताब नहीं जीता है| 1980 के आधे अधूरे ओलंपिक मे विजेता ज़रूर बने किंतु असल जीत 1975 के वर्ल्ड कप मे मिली थी|तब अजितपाल की कप्तानी मे भारतीय हॉकी टीम ने पहला और अब तक का एकमात्र खिताब जीतने मे सफलता पाई थी|अर्थात 43 साल से भारतीय हॉकी ने किसी शानदार जीत का स्वाद नहीं चखा है|

हॉकी जानकारों और देश के पूर्व चैम्पियनों की मानें तो भारतीय हॉकी फेडरेशन और हॉकी इंडिया वर्षों से देशवासियों को बेवकूफ़ बनाते आ रहे हैं| किसी भी वर्ल्ड कप और ओलंपिक से पहले बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं| खिताब जीतने के दावे तो ऐसे किए जाते हैं जैसे बाकी देश हमारे खिलाड़ियों के सामने हथियार डालने के लिए तैयार बैठे हों| कुछ इसी प्रकार के नखरे इस बार भी देखने को मिल रहे हैं| जो टीम मलेशिया जैसे फिसड्डी को नहीं हरा पा रही उसके कोच और खिलाड़ी अकड़-धकड़ दिखाने से बाज नहीं आ रहे| यह ना भूलें कि एशियाई खेलों मे भारत को कांस्य पदक ही मिल पाया था| एशियाड से पहले टीम प्रबंधन ऐसे बयानबाज़ी कर रहा था जैसे जकार्ता मे उनके नाम पर पहले ही स्वर्ण पदक दर्ज कर दिया गया हो|

कुछ पूर्व चैम्पियन कहते हैं कि हॉकी इंडिया लीग और लाखों की कमाई ने भारतीय खिलाड़ियों के दिमाग़ खराब कर दिए हैं| उपर से मीडिया का एक वर्ग उन्हें बरगला रहा है| उन्हें ऐसे सिर चढ़ाया जाता है जैसे उनसे बड़ा चैम्पियन देश मे कोई दूसरा नहीं है| दूसरी तरफ देश के ओलंपिक और वर्ल्ड चैम्पियन खिलाड़ियों की कोई पूछ नहीं है| हॉकी के नाम की खाने वाले बीते कल के जाँबाज़ों की खबर तक नहीं लेना चाहते|

इसमे दो राय नहीं कि पिछले कुछ समय से भारतीय खिलाड़ियों के प्रदर्शन मे सुधार नज़र आया है| कोच, खिलाड़ी और अधिकारी गंभीर रहे तो इस बार कामयाबी मिल सकती है| ज़रूरत इस बात की है कि झूठे दावों और अत्यधिक आत्मविश्वास से बचा जाए|

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.